पीएम मोदी ने नए संसद भवन का उद्घाटन किया,विपक्षी दल नहीं हुये शामिल

0
236

नई दिल्ली। देश को नया संसद भवन मिल चुका है। पीएम मोदी ने पूरे विधि-विधान से इसका उद्घाटन किया। नए भवन में लोकसभा में 888 और राज्यसभा में 384 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था है। नई संसद को लेकर देश में राजनीति भी खूब हुई। लगभग पूरे विपक्ष ने नई संसद के उद्घाटन के मौके से किनारा कर लिया है।

नये संसद भवन में इतने द्वार है

नए संसद के तीन द्वार हैं-गज द्वार, मकर द्वार और हंस द्वार। 
गज द्वार से लोकसभा में सीधे प्रवेश कर सकते हैं। इसी रास्ते से पीएम सेंगोल लेकर नए लोकसभा भवन में घुसे।
मकर द्वार पुराने संसद भवन के मुख्य द्वार के ठीक सामने है।
हंस द्वार अभी बंद है और उसका फिनिशिंग का काम जारी है।

नई संसद में तीन दीर्घाएं हैं
संगीत दीर्घा में स्वामी हरिदास, त्यागराजा के चित्र व वाद्य यंत्र, नवरस के भाव, शास्त्रीय नृत्य की
स्थापत्य दीर्घा में वृहदेश्वर मंदिर-तंजौर लेकर ओरोविल-पुड्डुचेरी तक की झलक दिखाई गई है। 
शिल्प दीर्घा में पत्थर, धातु, लकड़ी से लेकर कपड़ों की शिल्पकारी की झलक देखने को मिल रही है।

आत्ममुग्ध तानाशाह प्रधानमंत्री’ ने नए संसद भवन का उद्घाटन किया : कांग्रेस
कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संसद के नए भवन का उद्घाटन किए जाने के बाद रविवार को उन पर निशाना साधते हुए कहा कि एक ऐसे ‘‘आत्ममुग्ध तानाशाह प्रधानमंत्री’’ ने यह उद्घाटन किया है, जिन्हें संसदीय परंपराओं से नफरत है। वहीं एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने संसद के नए भवन के उद्घाटन पर कहा कि बिना विपक्ष के यह अधूरा कार्यक्रम है। इसका मतलब है कि देश में लोकतंत्र नहीं है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (28 मई) देश के नए संसद भवन का उद्घाटन किया। पिछले गुरुवार को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की और उन्हें नए संसद भवन का उद्घाटन करने का निमंत्रण दिया था। लोकसभा सचिवालय के मुताबिक, नए संसद भवन का निर्माण अब पूरा हो गया है। इसी के साथ नए संसद भवन ने पुरानी इमारत का स्थान ले लिया, जिसमें अब कई खामियां आ चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here